Sunday, June 1, 2008

निशाना और वो भी सुंदर गुडिया पर...........


7 comments:

Sandy said...

Wah guru maza aa gaya photo dekh kar...lekin e sasur swaroop sir...bataibe nahin kiyen ki itna dhansu blog shuru kiye hain...

Sandeep Singh said...

एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र से "कविता" कैसे लिखी जाती है ये सुनील भाई आपने बखूब दिखा दिया। काश गुऱू (प्रभात जी)की भी नज़र इन तस्वीरों पर पड़ती। बंदूक के निशाने पर बार्बी बहुत से उन सुनील कैथवास को तस्वीर खींचने पर मजबूर कर सकती है जिनके पास दिमाग के साथ ही दिल है। "कौतूहल" बच्चों का था लेकिन तस्वीर ने दिल सभी का जीता। वाह...वाह। इंतजार............

sunil kaithwas said...

sandeep sir shukriya..........

sunil kaithwas said...

sandy sir maja aage aur hai wach continew chay baithkee.........

Swarup said...

laajwaab....marvellous...ati sunder ...our taarif ke jo bhi shabd sambhav hain...saare jod lena...

Deepak said...

Ka bhai yeh tuhar taswir k kauno jawab nahi bhai..lage raho munna bhai...Cheers....!Deepak Gambhir,Allahabad

sunil kaithwas said...

swarup sir bahut bhaut shukriya
gambhir bhai bahut bahut shukriya...