Friday, July 16, 2010

उसे शौक है
गीली मिट्टी के घरौंदे बनाने का
सजा सजा कर रखता जा रहा है
जहां का तहां
निश्चिंत है न जाने क्यूं
अरे
कोई बताओ उस पागल को
कि
सरकार बदलने वाली है।

3 comments:

Divya said...

bahut sundar likha hai...

lekin jee lene dijiye usse jab tak sarkaarein nahi badali hain..

kabhi kabhi kushfehmiyan bhi jeene ka sahara hoti hain.

shuhani sham said...

lajavab daddu...very nice!

संजय भास्कर said...

bahut sundar likha hai...