Thursday, April 7, 2011

ख़बरदार...

76 साल के उस बुजुर्ग की हिम्मत तो देखिए किस कदर न्योछावर करने पर तुला है अपने आपको..., “दिल दिया है जान भी देंगे ऐ वतन तेरे लिए” को चरितार्थ कर रहे उस एक सिपाही का विश्वास तो देखिए जिसने साफ कर दिया कि जान जाए तो जाए लेकिन करप्शन से बूढ़ी हड्डियां टकराती रहेंगी...सच में इतिहास बनने जा रहें हैं अन्ना...और मैं बना रहा हूं अपने आपको उस इतिहास का हिस्सा...करप्शन के खिलाफ इस मुहिम में शामिल है मेरा तन मन धन..और ये चंद पंक्तियां...इंकलाब ज़िंदाबाद...

सच्चाई की हुंकार है सरकार ख़बरदार
सरकार ख़बरदार और सरदार ख़बरदार।

अन्ना की ये हुंकार लील जाएगी तुमको
आ कर मुकाबला तू भ्रष्टाचार ख़बरदार..।

काहिरा जला तबाह लीबिया हुआ
दरकार सबक की है मेरे यार ख़बरदार।

तुमने बहुत लिखे हैं मुहब्बत के गीत अब
कुछ क्रांति लिखो ऐ कलमगार ख़बरदार।

5 comments:

Poorviya said...

bilkul sahi ....
अन्ना की ये हुंकार लील जाएगी sarkar
आ कर मुकाबला तू भ्रष्टाचार ख़बरदार..।

jai baba banaras....

विवेक Call me Vish !! said...

wah wah wah....jai ho mangalmay ho!!

रूप said...

bahut achchhe , ee bhawa na asli ilahabadi. buck up buddy ! am wid u .

sumeet "satya" said...

Ham Jeet Gaye ajit.....Sarkar jhuk gayi........AB Brastachar aur Brastachariyon ki khair nahi

अजित त्रिपाठी said...

han sumit sir...
ऐ हवा जा कर कह दे सोनिया गांधी से
बच ना पाएंगें भ्रष्टाचारी इस अन्ना की आंधी से..